गुरुवार, 27 सितंबर 2018

क्या आपको पता है विराट कोहली के टेटू के राज़ ?

विराट कोहली ने अपनी बोडी पर अलग अलग ९ टेटू बनवाये है| उनके सभी टेटू के पीछे कोइना कोई राज़ है जो की बहुत कम लोगो को पता है |  तो जानते है विरत कोहली के टेटू के पीछे का राज़ |

विराट कोहली के टेटू के राज़


विराट कोहली के टेटू के राज़
(Virat Kohli ke tattoo ke raz )

१. माता - पिता के नाम 

माता - पिता के नाम
माता - पिता के नाम

इसके बारे में विराट का कहेना है की " मेरे माँ बाप ने मेरे लिए बहोत कुछ किया है , उसे २ शब्दों में बताना मुश्किल है लेकिन जबतक में जिन्दा हु तब तक उसे अपने साथ रखना चाहता हु " 

२. एकदिवसीय और टेस्ट के केप नम्बर 

विराट कोहली ने पहेला एकदिवसीय मेच श्रीलंका के सामने २००८ में खेला था| वो इण्डिया की और से १७५ में एकदिवसीय मेच खेलने वाले प्लेयर बने |
विराट को २०११ में टेस्ट केप मिला | वो इण्डिया की और से २६९ वे टेस्ट प्लेयर है 


३. जन्मराशी

विराट की जन्मराशी वृश्चिकराशी है|वो टेटू उसने अपने दाए हाथ में बनवाया है | 

विराट कोहली की जन्मराशी
 
 ४. जापानी समुराई

इसके बारे में विराट का कहेना है की " में और समुराई एक जैसे ही है | मुझे भी जीवन में कभी संघर्स करने पड़े है  , मेंने जीवन में जो निर्णय लिए है वो मुझे समुराई जैसा बनाते है " 

विराट कोहली के टेटू

५. भगवान की आँख  

इसके बारे में विराट कोहली का कहेना है की "
मैं इसे भगवान की आंख कहता हूं। तो, मूल रूप से, सभी देखने वाली आंख। जो कुछ भी हो रहा है उसे देखा जा रहा है और कोई भी हमेशा आपके द्वारा किए गए सब कुछ की गिनती रखता है। इसलिए यह आपको एक तरह से जुड़ा हुआ महसूस करता है और यह भी आपको जीवन के सार को समझता है और हमें मनुष्यों के रूप में क्या करना है और हमारा अंतिम लक्ष्य क्या है।" 

विराट कोहली के टेटू के राज़



६. जनजातीय कला 


इसके बारे में विराट कहेते है की " यह ऐसा कुछ है जो मुझे अपनी पहचान का एहसास देता है। और एक यादृच्छिक जनजातीय डिजाइन प्राप्त करने से, अब मेरे अग्रदूत पर शिव प्राप्त करने के लिए, यह एक प्रतिबिंब है कि मेरा जीवन कैसा चल रहा है, जहां आज यह खड़ा है और अब मैं क्या सोचता हूं और जीवन को फिर से देखता हूं। " 
जनजातीय कला

७. मठ

क्रिकेट ग्राउंड को विराट मंदिर मानते है | और मंदिर और मठ शांति और शक्ति का प्रतीक है जो उसे अपने खेल में उत्कृष्टता में मदद करता है।




8. भगवान शिव ध्यानमग्न 


खेल खेलते समय उसे पसंद हे की वो अपने सरे दुःख भूलकर एक ध्यान से आक्रामकता से खेले 

 ९.ॐ का सिम्बोल 

इसके बारे में विराट कोहली  का कहना है की " ओम प्रतीक, सार्वभौमिक ध्वनि है, जो पूरे ब्रह्मांड में शायद सबसे संगत चीज है। जहां भी आप ब्रह्मांड की आवाज़ देखते हैं, आप जानते हैं, सबसे सुसंगत आवाज क्या है जिसे आप सुनेंगे और यह जीवन का सार है। यह समझने के लिए कि आप ब्रह्मांड में भी धूल के कण नहीं हैं और कभी-कभी हमारी अहंकार हमें यह सोचने की अनुमति देती है कि हम सबकुछ हैं। इसलिए, मुझे लगता है कि यह कई तरीकों से काफी आश्चर्यजनक और काफी शानदार है। मैंने अब समझना शुरू कर दिया है ... तो, मैंने दृढ़ता से महसूस करना शुरू कर दिया है कि मेरा मतलब है कि मैं कहाँ हूं और यह यादृच्छिक नहीं है "


अब हमारे इस ब्लॉग पर हम हिंदी जोक्स और मीम के आलावा ऐसी जानकारी भी शेर करेंगे,तो जरुर फोलो करना | 

ये माहिती हमे quora और  National Geographic channel  से प्राप्त हुई है !

ऐसी ही जानकारी के लिए ये ब्लॉग फोलो करे | हमे ट्विटर,इन्स्ताग्राम और फेसबुक में फोलो करे |

अन्य जानकारी की सारी  पोस्ट्स पढने के लिए  क्लिक करे =>  जानकारी

If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

Comment with Facebook